Stock Market Index kya hai?_स्टॉक मार्केट इंडेक्स क्या है?_शेयर सूचकांक

Stock Market Index kya hai? शेयर मार्केट इंडेक्स क्या है?

Stock Market Index kya hai? स्टॉक मार्केट इंडेक्स क्या है?: डियर फ्रेंड्स, आज हम बात करेंगे –

Stock Market Index kya hai? स्टॉक मार्केट इंडेक्स क्या है? या शेयर मार्केट इंडेक्स क्या है? स्टॉक मार्केट इंडेक्स की आवश्यकता क्यों होती है? और शेयर मार्केट इंडेक्स के माध्यम से शेयर मार्केट की गतिविधियों को कैसे समझा और जाना जाता है?

आप सभी अखबारों और न्यूज़ चैनलों में शेयर मार्केट से संबंधित सेंसेक्स और निफ्टी जैसे इंडेक्सेस के बारे में लगातार न्यूज़ पढ़ते और देखते रहते हैं और अक्सर इन इंडेक्सों के बारे में बहुत सारे प्रश्न आपके दिमाग में आते रहते हैं।

तो आइए हम समझने का प्रयास करते हैं कि, शेयर मार्केट इंडेक्स क्या है?

Stock Market Index Meaning Hindi (शेयर मार्केट इंडेक्स का अर्थ):

फ्रेंड्स इंडेक्स का हिंदी भाषा में अर्थ होता है – सूचकांक या सूची।

  • सूचकांक, अर्थात सूचना अंको की। या अंको की सूचना देने वाला संकेतक।
  • इस प्रकार सरल शब्दों में इंडेक्स या सूचकांक का मतलब होता है – अंको की सूचना देने वाला संकेतक

शेयर इंडेक्स (शेयर सूचकांक): इंडेक्स में शामिल कम्पनियों के शेयर्स के अंकों की सूचना को दर्शाता है।

Stock Market Index को एक “स्टैटिकल इंडिकेटर” के रूप में देखा जाता है और इंडेक्स के माध्यम से शेयर मार्केट में होने वाले तेजी-मंदी या उतार-चढ़ाव को समझा जाता है।

शेयर इंडेक्स में स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट टॉप कंपनियों के शेयर शामिल किए जाते हैं और इस इंडेक्स के माध्यम से बाजार में होने वाले पर हरेक हलचल को समझने का प्रयास किया जाता है।

स्टॉक मार्केट इंडेक्स और तेजी-मंदी या उतार-चढ़ाव

Stock Market Index के माध्यम से शेयर मार्केट में होने वाली तेजी-मंदी को देखा जाता है।

अगर इंडेक्स पिछले दिन के अंको से ऊपर खुलता है तो इसे शेयर मार्केट में तेजी या लाभ के रूप में समझा जाता है और इसके विपरीत अगर इंडेक्स पिछले दिन के अंगों से नीचे खुलता है तो इसे शेयर मार्केट में मंदी या हानि के रूप में समझा जाता है।

इस तरह Stock Market Index के माध्यम से देश के पूरे शेयर मार्केट और सेक्टोरल स्टॉक इंडेक्स के माध्यम से सेक्टर की कंपनियों के शेयर की तेजी या मंदी के पूरे कारोबार आकलन किया जाता है।

एक उदाहरण के द्वारा हम इसे और स्पष्ट रूप से समझ सकते हैं:

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स सेंसेक्स अगर 12 मार्च 2019 को 27000 अंको पर बंद हुआ और दूसरे दिन 13 मार्च 2019 को यह सेंसेक्स 28,000 अंकों पर बंद होता है तो इसे तेजी या लाभ के साथ शेयर मार्केट में कारोबार माना जाता है।

इसके विपरीत अगर अंको में कमी के साथ शेयर मार्केट बंद होता है तो इसे मंदी या हानि के साथ शेयर मार्केट में कारोबार माना जाता है।

विस्तार से पढ़ें –

Share this:

Leave a Comment

error: Content is protected !