सेंसेक्स_सेंसेक्स क्या है?_Sensex meaning in Hindi_What is Sensex in Hindi.

सेंसेक्स | सेंसेक्स क्या है? | Sensex meaning in Hindi | What is Sensex in Hindi?

सेंसेक्स | Sensex

सेंसेक्स | सेंसेक्स क्या है?: डियर फ्रेंड्स, Sensex (सेंसेक्स) बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का मुख्य शेयर सूचकांक है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इस इंडेक्स से शेयर मार्केट की तेजी-मंदी की जानकारी मिलती है।

Sensex meaning in Hindi:

Sensex full form – Bombay Stock Exchange Sensitive Index | Sensex full form in hindi – बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज संवेदी सूचकांक।

  • भारत का सबसे पुराना स्टॉक इंडेक्स है जिसकी स्थापना वर्ष 1986 में की गई थी।
  • BSE Sensex (बसे सेंसेक्स) में कुल 30 कंपनियों के शेयर्स शामिल है।

Indian Share Market में सेंसेक्स एक बहुत ही प्रसिद्ध इंडेक्स है, जो इसमें शामिल कंपनियों के शेयर्स में होने वाले उतार-चढ़ाव इंडिकेट करता है और शेयर बाजार के रुझान को दर्शाता है।

सेंसेक्स ३० | Sensex 30

BSE सेंसेक्स में लिस्टेड 30 कंपनियों के शेयर की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ावों की जानकारी मिलती है। कंपनियों के हानि और लाभ का असर उनके शेयरों पर पड़ता है और शेयर्स की कीमतें बढ़ती और घटती हैं।

  • Sensex में तेजी का मतलब कंपनियों के शेयर की कीमतों में वृद्धि।
  • Sensex में मंदी का मतलब कंपनियों के शेयर की कीमतों में गिरावट।

इस प्रकार सें सेंसेक्स में होने वाली तेजी-मंदी से शेयर मार्केट के उतार-चढ़ाव को समझने का प्रयास किया जाता है।  शेयर मार्केट की दिशा क्या है? कंपनियां किस तरीके से काम कर रही है? कंपनियों के लाभ और हानि क्या है? इन सब प्रश्नों का प्रभाव सेंसेक्स और पूरे शेयर मार्केट पर पड़ता है।

  • इसके अलावा इससे देश की इकॉनमी के वातावरण को समझने मैं भी सहायता मिलती है।

अगर कंपनियों के लाभ बढ़ रहे हैं तो अर्थव्यवस्था विकास में है ऐसा माना जाता है। लेकिन अगर कंपनियों के लाभ स्थिर हैं या हानियां बढ़ रही हैं तो यह अर्थव्यवस्था के लिए प्रतिकूल माना जाता है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में Sensex के अलावा अन्य इंडेक्स भी हैं जैसे –

  • एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स – S&P BSE SENSEX
  • एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स 50 – S&P BSE SENSEX 50
  • एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स नेक्स्ट 50 – S&P BSE SENSEX NEXT 50
  • एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स स्मॉल कैप – S&P BSE SENSEX SMALL CAP

सेंसेक्स की गणना कैसे करें? How to calculate Sensex?

  • सेंसेक्स की गणना के लिए सबसे पहले भारित बाजार पूंजीकरण पद्धति (weighted market capitalization method) का उपयोग किया गया।
  • सितंबर 2003 से सेंसेक्स की गणना फ्री फ्लोट मार्केट केपीटलाइजेशन पद्धति (free float market capitalization method) से की जाती है।
  • सेंसेक्स की गणना का आधार वर्ष 1978-79 है।

फ्री फ्लोट मार्केट केपीटलाइजेशन क्या है? What is free float market capitalization?

  • Free float उन “कुल शेयरों का प्रतिशत” होता है जिसे कंपनी द्वारा बाजार में व्यापार के लिए उपलब्ध कराया जाता है।
  • Market capitalization को कम्पनी के शेयरों की संख्या को उनके कीमतों से गुणा कर निकाला जाता है।
  • Market capitalization of company = Quantity of shares * Price of shares.

Sensex (सेंसेक्स) में कुल 30 कंपनियों के शेयर्स शामिल है।

  • सेंसेक्स में 30 कंपनियों को शामिल किया जाता है जिनके शेयर बहुत अधिक वॉल्यूम में खरीदे और बेचे जाते हैं। जिनमें Volatility (वॉलिटिलिटी) अधिक होती है। जिनमें प्रत्येक ट्रेडिंग सत्र में अच्छी ट्रेडिंग होती है।
  • यह 30 कंपनियां बड़ी कंपनियां होती है। इनका मार्केट कैप बीएसई अन्य कंपनियों का मार्केट कैप का आधा होता है।
  • कंपनियों का चयन 13 अलग-अलग सेक्टर और इंडस्ट्रीज से किया जाता है यह अपने क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनियां होती हैं।
  • सेंसेक्स ३० में शामिल कंपनियाँ  » सेंसेक्स इंडेक्स

सेंसेक्स में 30 कंपनियों का चयन कैसे होता है?

  • Sensex (सेंसेक्स) की 30 कंपनियों का चयन BSE के Index Committee द्वारा किया जाता है। इस कमेटी में अर्थशास्त्री, वित्त मामलों के जानकार, बैंक और सरकार के प्रतिनिधि शामिल होते हैं।

विस्तार से पढ़ें –

Share this:

Leave a Comment