शेयर के प्रकार, शेयर कितने प्रकार के होते हैं? Types of shares in Hindi

शेयर के प्रकार | शेयर कितने प्रकार के होते हैं? | Types of shares in Hindi.

शेयर के प्रकार (Types of shares in Hindi): कंपनियों को अपने व्यवसाय के विकास व विस्तार के लिए पूंजी की आवश्यकता होती है। इसके लिए कंपनियां कई प्रकार के शेयर्स जारी करती है। शेयर्स होडलर्स को शेयर्स के साथ-साथ अलग सुविधाएँ और दायित्व भी प्राप्त होते है। शेयर्स के इन प्रकारों को हम समझने का प्रयास करते है।

शेयर के प्रकार | शेयर कितने प्रकार के होते हैं? 

शेयर्स मुख्यतया निम्न प्रकार के होते है :-

Ordinary Shares (साधारण शेयर)

साधारण शेयरधारक कंपनी की कमाई में हिस्सेदारी के अधिकारी होते हैं। ये कोई असाधारण या पसंदीदा अधिकार नहीं रखते हैं। वे वरीयता शेयरों के बाद लाभांश और पूंजी की वापसी के संबंध में प्राथमिकता रखते हैं। सामान्य बैठक के अलावा अन्य आधिकारिक बैठकों में भी मतदान कर सकते हैं।

Deferred Ordinary Shares (आस्थगित साधारण शेयर)

एक कंपनी ऐसे आस्थगित साधारण शेयर्स भी जारी कर सकती है जिस पर लाभांश का भुगतान तब तक नहीं किया जाएगा जब तक कि, अन्य सभी वर्गों के शेयरों को न्यूनतम लाभांश प्राप्त नहीं हो जाता। इसके बाद ऐसे शेयर पूरी तरह से भाग लेंगे।

Redeemable Shares (प्रतिदेय शेयर)

इनकी शर्तें इन्हे कंपनी को भविष्य में उन्हें वापस खरीदने का विकल्प देती हैं। प्रतिदेय शेयर धारक के पास उन्हें वापस कंपनी में बेचने का विकल्प भी हो सकता है।

Preference Shares (वरीयता शेयर)

इन शेयरों को पसंदीदा भी कहा जाता है क्योंकि इसके धारकों को हर साल एक निश्चित राशि लाभांश प्राप्त करने का अधिकार होता है। लाभांश के भुगतान के मामले में या कंपनी के समापन पर साधारण शेयरधारकों से अधिक महत्व या ‘प्राथमिकता’ मिलती है। लेकिन मतदान के अधिकार प्रतिबंधित है।

एक कंपनी के पास कई प्रकार के शेयर्स हो सकते हैं जो, उसके लाभ और अधिकार के संबंध में विभिन्न शर्तों और अधिकारों के साथ जारी किये जाते हैं।

विस्तार से पढ़ें –

Share this:

Leave a Comment