share market kya hai_What is Share Market in hindi

शेयर मार्केट क्या है? What is Share Market in Hindi?

Share Market दो शब्दों से मिलकर बना है, शेयर और मार्केटशेयर क्या है? ये आपने समझ लिया तो अब मार्केट को समझते है:

फ्रेंड्स, हम सभी मार्केट या बाजार शब्द से परिचित है। मार्केट एक ऐसा स्थान होता है, जहाँ पर वस्तुओं या सेवाओं को ख़रीदा या बेचा जाता है। एक ऐसा स्थान जहाँ लेनेवाला और बेचनेवाला (ग्राहक और दुकानदार) एक साथ बाजार में क्रय-विक्रय करते रहते है। इस तरह इसमें दो लोगों क्रेता और विक्रेता की भूमिका होती है।

बाजार के भी प्रकार होते है:-

जैसे – सोने-चांदी का सराफा बाजार, वस्तुओं का बाजार, पैसों का बाजार (मनी मार्केट) या शेयर मार्केट इत्यादि।

अब समझते हैं कि, Share Market kya hai? शेयर मार्किट क्या है?

सरल शब्दों में कहें तो शेयर मार्केट, एक ऐसी जगह है जहां पर शेयर्स की खरीदी-बिक्री की जाती है।

देश के स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से शेयर्स के खरीदार और बेचने वाले भौतिक रूप से या वर्चुअल तरीके से शेयर्स की खरीदी-बिक्री का कार्य करते हैं। इस पूरी संरचना को शेयर मार्केट के नाम से जाना जाता है।

शेयर मार्केट में शेयर्स की खरीदी-बिक्री का संपूर्ण कार्य ऑनलाइन कंप्यूटराइज सिस्टम के द्वारा होता है। शेयर्स के Buy और Sale के आर्डर स्टॉक एक्सचेंज को दिए जाते हैं और स्टॉक एक्सचेंज की इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली शेयर्स के Buy और Sale के आर्डर को उचित कीमत के साथ पूरा करती है।

यहाँ पर उचित कीमत का मतलब उस क़ीमत से जहाँ पर Buyer और Seller के द्वारा शेयर की ख़रीदी-बिक्री पूरी होती है। शेयर्स के Buy – Sale की इस पूरी प्रक्रिया को शेयर ट्रेडिंग के नाम से जाना जाता है।

तो आप भी समझ गए होंगे कि, शेयर मार्केट एक ऐसा स्थान जहां पर शेयर्स की ट्रेडिंग की जाती है। Share Market में एक छोटे निवेशक से लेकर बड़े निवेशक जैसे- म्यूच्यूअल फंड कंपनियां, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई), घरेलू संस्थागत निवेशक (डीआईआई) शामिल होते हैं। इस तरह यह देश का एक बहुत बड़ा पूंजी बाजार माना जाता है।

शेयर मार्केट के प्रकार (Types of share market in hindi)

Share Market को प्राइमरी मार्केटऔर सेकेंडरी मार्केट दो वर्गों में वर्गीकृत किया जाता है:

  1. प्राइमरी मार्केट

प्राइमरी मार्केट जहां पर पहली बार शेयर जारी किए जाते हैं। प्राइमरी मार्केट वह स्थान है जहाँ कोई कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में पहली बार सूचीबद्ध होती है और शेयर जारी करती है। कंपनियां आईपीओ (Initial Public Offering) के माध्यम से प्राथमिक बाजार में शेयर जारी करके धन जुटाती है।

  1. सेकेंडरी मार्केट

निवेशकों द्वारा IPO (Initial Public Offering) में ख़रीदे गए शेयरों को सेकेंडरी मार्केट में बेचा जा सकता है। सेकेंडरी मार्केट एक्सचेंज ट्रेडेड मार्केट है। एक्सचेंज ट्रेडेड मार्केट वह स्थान है जहां मौजूदा शेयर्स को शेयर ब्रोकर के माध्यम से निवेशकों द्वारा लाया और बेचा जाता है।

सेकेंडरी मार्केट रेगुलेटेड होते हैं और शेयर बाजार की नियामक संस्था सेबी की निगरानी में काम करते है। सेकेंडरी मार्केट में हम अपने निवेश से लाभ प्राप्त करने के लिए शेयरों में निवेश कर सकते हैं।

शेयर मार्केट कैसे काम करता है? या शेयर मार्केट को कैसे समझें?

शेयर मार्केट में आपको बाजार के विभिन्न घटकों और शेयर मार्केट की बुनियादी बातों को समझना ज़रूरी है। मार्केट के सामान्य सिद्धांतों और उसकी कार्यप्रणाली को हमें समझना होता है। इसमें स्टॉक एक्सचेंज, शेयर जारी करने वाली कम्पनियाँ, स्टॉक ब्रोकर, सेबी और निवेशक शेयर मार्केट के मुख्य घटक होते है।

  • स्टॉक एक्सचेंज में शेयर्स, बॉन्ड, डेरिवेटिव्स और अन्य वित्तीय उत्पादों की ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग की पूरी प्रक्रिया होती है।
  • कंपनियां सेबी और स्टॉक एक्सचेंज में रजिस्टर्ड होकर अपने शेयर्स को प्राइमरी मार्केट और उसके बाद सेकेंडरी मार्केट में जारी करती है।
  • सेबी शेयर बाजार की नियामक संस्था है। शेयर मार्केट के सभी इंस्टीटूशन्स सेबी की निगरानी में होते है और सेबी के नियमों का पालन करने के लिए वे बाध्य होते है।
  • निवेशक बहुत ही महत्वपूर्ण और प्रमुख पार्टिसिपेंट्स है जो शेयर मार्केट में निवेश या ट्रेडिंग करते है। इस तरह ये बाज़ार के कुछ प्रमुख घटक माने जाते है जिसके माध्यम से पूरे शेयर मार्केट के काम होते है।

शेयर मार्केट विभिन्न कारकों से प्रभावित और संचालित होता है। इनको समझना हमारे लिए ज़रूरी है। ये एक तरह से शेयर बाजार के नियम है। यह ज़रूरी होने के साथ ही फायदेमंद भी है।

देश की अर्थव्यवस्था, सरकार की आर्थिक नीतियां, कंपनियों के रिजल्ट्स और उनका परफॉरमेंस, ग्लोबल मार्किट, ग्लोबल डिमांड एंड सप्लाई इत्यादि कारकों को भी समझना होता है। इन सभी ख़बरों का प्रभाव शेयर मार्केट पर पड़ता है।

शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं? शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें? (How to invest money in share market in hindi)

शेयर बाजार में कैसे करें निवेश की शुरुआत?: शेयर मार्केट में पैसा लगाना बहुत ही सरल है। शेयर मार्केट में पैसा लगाने के लिए आपको एक डीमैट अकाउंट और बैंक खाता खोलना होता है। शेयर मार्केट में पैसा लगाने से पहले कुछ चीज़ों के बारे में आपको पता होना चाहिए।
बैंक खाता
आपके पास एक बैंक खाता होना चाहिए। बैंक खाते को आपके ट्रेडिंग खाते के साथ जोड़ा जाता है। ताकि आप बैंक खाते से शेयर मार्केट के सभी लेनदेन के लिए पैसों को ट्रान्सफर कर सकें।
पैन कार्ड
आपके पास पैन कार्ड होना चाहिए। पैन कार्ड के द्वारा सरकार आपके समस्त वित्तीय लेनदेन की जानकारी रखती है। पैन कार्ड अनिवार्य है।
आधार कार्ड
आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए। आधार कार्ड से नाम, एड्रेस प्रूफ इत्यादि KVC की फॉर्मैलिटी को पूरा किया जाता है। आधार कार्ड का उपयोग डीमैट खाता खोलते समय प्रमाणीकरण के लिए किया जाता है।
शेयर ब्रोकर कंपनी
शेयर ब्रोकर कंपनियां स्टॉक एक्सचेंज और निवेशकों के बीच मध्यस्थ होती है। आप सेबी पंजीकृत शेयर ब्रोकर के पास अपना डीमैट आकउंट ओपन करें। शेयर ब्रोकर कंपनियां डीमैट और ट्रेडिंग आकउंट खोल देती है। ट्रेडिंग अकॉउंट से आप शेयर्स की ट्रेडिंग करते है। शेयर ब्रोकर के माध्यम से आप शेयर मार्केट में पैसा लगाना चालू कर सकते है।

शेयर मार्केट में कम से कम कितना पैसा लगा सकते है? शेयर बाजार में न्यूनतम निवेश क्या है?

अधिकांश नए निवेशकों के मन में यह प्रश्न होता है कि, हम शेयर मार्केट में कम से कम कितना पैसा लगा सकते है? तो आपको स्पष्ट कर दें कि, शेयर मार्केट में न तो कोई न्यूनतम और न ही अधिकतम निवेश राशि की ज़रूरत होती है। इसका मतलब है कि, आप किसी भी कंपनी का एक शेयर भी खरीद सकते है और चाहे तो बाजार में उपलब्ध सभी शेयर भी खरीद सकते है।

शेयर मार्केट की इस खरीदी-बिक्री में आपको शेयर्स की कीमतों के अलावा दो प्रकार के अन्य खर्चों को वहन करना होता है। पहला शेयर ब्रोकर कंपनियों द्वारा खरीदी-बिक्री (शेयर ट्रेडिंग) पर लिया जाने वाला ब्रोकरेज शुल्क का और दूसरा भारत सरकार द्वारा लगाए जाने वाले करों का भुगतान करना होता है।

zerodha open an account

शेयर मार्किट में निवेश करने का सबसे अच्छा समय क्या है? (what is the best time to invest in share market in hindi)

कोई भी इन सवालों का पूरे आत्मविश्वास के साथ जवाब नहीं दे सकता है। लेकिन ऐसा उचित और लाभदायक माना जाता है कि, शेयर मार्किट में मंदी का बाजार निवेश के लिए सबसे सही समय होता है। मंदी के समय में शेयर्स की कीमतें कम हो जाती है और आपको अच्छे वैल्यू में शेयर्स मिल जाते है। इसके विपरीत तेजी के बाजार में अपने निवेश (शेयर्स) को बेचने का सही समय माना जाता है। इस समय शेयर्स की कीमतें बढ़ती जाती है और आपको अपने निवेश का अच्छा रिटर्न मिलता जाता है।

हम आशा करते है कि, ऊपर दी जानकारियों ने आपके सभी सवालों-शंकाओं को दूर किया होगा। शेयर मार्केट क्या है?, शेयर मार्केट कैसे काम करता है? या शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें?, शेयर मार्किट में निवेश करने का सबसे अच्छा समय क्या है? जैसे इन प्रश्नों से शेयर मार्केट से जुड़ी बुनियादी जानकारियाँ आपको मिली होगी।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी, तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर ज़रूर करें। इस विषय पर आपके और कोई प्रश्न है, तो आप नीचे Comment Section में ज़रूर लिखें। हम आपके सवालों का जवाब देने प्रयास करेंगे। शेयर मार्केट जुड़ी नयी जानकारियों के लिए इस वेबसाइट से जुड़े रहें।

विस्तार से पढ़ें (Related Post) –

Share this:

2 thoughts on “शेयर मार्केट क्या है? What is Share Market in Hindi?”

  1. शेयर के लिए डिमैट अकाउंट और ट्रेड अकाउंट ब्रोकर द्वारा ही खोल सकते हैं या ऑनलाइन घर बैठे ओपन कर सकते हैं इसके लिए क्या वेबसाइट है।

    Reply
    • मदन जी शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग के लिए आपको डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट की ज़रूरत होती है। इन्हें ओपन करने के लिए आपको ब्रोकर की ज़रूरत पड़ती है। अपने नजदीकी ब्रोकर के यहाँ आप मैनुअली या फ़िर ब्रोकिंग कम्पनियों की वेबसाइट पर ऑनलाइन भी ओपन कर सकते है। मार्केट में बहुत-सी ब्रोकिंग हाउस कम्पनियाँ (जैसे: ZERODHA BROKING LIMITED, Upstox SECURITIES, HDFC SECURITIES LTD. इत्यादि) है, आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से उनकी सेवाएँ लें सकते है।

      Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !