How to select mutual funds in hindi म्यूचुअल फंड कैसे सेलेक्ट करें

How to select mutual funds in hindi म्यूचुअल फंड कैसे सेलेक्ट करें

How to select mutual funds in hindi म्यूचुअल फंड कैसे सेलेक्ट करें?: क्या आप म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना चाहते हैं? तो शुरुआत में इसे Select करना उलझन भरा होता हैं, लेकिन यदि आप कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखते हैं, तो आप एक सही इन्वेस्टमेंट प्लान का चयन कर सकते है।

बहुत से लोग एक सही निवेश योजना चुनने में कठिनाई का सामना करते हैं और सही जानकारी के आभाव में गलत या अपर्याप्त निर्णय लेते हैं।

बाजार में फंडों का विस्तृत अध्ययन करना और इन्वेस्ट करने से पहले विभिन्न मापदंडों का विश्लेषण करना बहुत ही आवश्यक है। लेकिन इससे पहले कि हम रिसर्च करें, हमें उन सभी बातों के बारे में पता होना चाहिए जिनका हमें अध्ययन और विश्लेषण करने की आवश्यकता है। म्यूचुअल फंड कैसे सेलेक्ट करें या म्यूचुअल फंड में निवेश का निर्णय लेते समय कुछ प्रमुख बातों के बारे में ध्यान रखना चाहिए:

लक्ष्य निर्धारित करें 

म्यूचुअल फंड में निवेश क्यों करना चाहते है? निवेशक को पता होना चाहिए कि, वह म्यूचुअल फंड में निवेश क्यों करना चाहता है। हरेक निवेशक के पास अलग-अलग निवेश लक्ष्य होते हैं जो अल्पकालिक या दीर्घकालिक प्रकृति के होते हैं। इसलिए एक निर्धारित लक्ष्य सबसे अच्छे निवेश रणनीति के लिए चयन करने में सहायता करती है। आप अपने निर्धारित उद्देश्यों के अनुसार, आप सबसे अच्छे म्यूचुअल फंड चुन सकते हैं। ये या तो इक्विटी, डेट या फिर हाइब्रिड फंड की श्रेणी में होते हैं।

फंड के परफॉरमेंस को देखें

म्यूचुअल फंडों के परफॉरमेंस को जरूर देखें। रिटर्न आन इन्वेस्टमेंट को जानना प्रत्येक निवेशक का एक प्राथमिक उद्देश्य होता है। म्यूचुअल फंडों का पिछला प्रदर्शन (ट्रैक रिकॉर्ड ) देकने से आपको उनकी की क्षमता के बारे में एक समझ प्रदान करता है। इससे आप अपनी मेहनत की कमाई को म्यूचुअल फंडों पर निवेश करने के बारे में आश्वस्त होते हैं।

डाइवर्सिफ़ाइड फंड

म्यूचुअल फंडों में निवेश को लेकर हमेशा डाइवर्सिफ़ाइड फंड में निवेश की सलाह दी जाती है। सुनिश्चित करना चाहिए कि, कम जोखिम और अधिकतम रिटर्न देने वाला फंड का बहुत अच्छा डाइवर्सिफिकेशन हो, ताकि प्रतिकूल बाजार दशाओं में भी फंड में संतुलन बना रहे।

निवेश में निरंतरता

जितना आसान फंड में निवेश करना होता है उतना ही  कठिन इसे जारी रखना होता है। इसलिए systematic investment plan (SIP) के द्वारा एक अपनी निवेश को जारी रखना चाहिए। एसआईपी (SIP) से आपके निवेश वैल्यू की Averaging होती जाती है और आपके उचित लाभ प्राप्त करने में निरंतरता बनी होती है।

खर्च और भार (लोड)

म्यूचुअल फंड कैसे सेलेक्ट करें इस प्रश्न का एक महत्वपूर्ण पहलू है फंडों का खर्च और भार (लोड)। म्यूचुअल फंड निवेश के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के भार (लोड) जुड़े होते हैं, जिन पर विचार करने की आवश्यकता होती है। Exit या Entry Load से निवेश की लागत बढ़ सकती है, जो  निवेशित पूंजी के भविष्य के मूल्य पर भी नकारात्मक प्रभाव डालती है।

म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करने के निर्णय महत्वपूर्ण हैं और इसे कुशलता के साथ लिया जाना चाहिए।  मैं आशा करता हूँ कि, ऊपर लिखीं बातें आपके प्रश्न How to select mutual funds in hindi  (म्यूचुअल फंड कैसे सेलेक्ट करें) और निवेश को सार्थक बनाने और सबसे अच्छे म्यूचुअल फंडों को चुनने में मदद करेगी।

 

विस्तार से पढ़ें –

Share this:

Leave a Comment

error: Content is protected !